यही जिन्दगानी-शरत मल्होत्रा

SHARAT MALHOTRA SINGS AND COMPOSES “DILIP GAJJAR’S LOVELY LYRICS ALL THE WAY FROM UNITED KINGDOM, SHARAT LIVES IN TEXAS USA AND THIS COLLABORATION HAPPENED KIND COURTESY FACE BOOK, PLEASE ENJOY THIS LOVELY MELODY AND SEND US YOUR VALUABLE COMMENTS, WE REALLY APPRECIATE THAT AS THAT WILL HELP US DEVELOP INTO BETTER ARTISTS. THANKS
 — with Kim NarayanNishit JoshiJanak M DesaiDilip Gajjar and Nerwin Sandhu at RICHMOND STUDIOS (COPYRIGHT USA GBX 394638 BLUE LABEL RECORDS).

प्यारे दोस्तो, बहोत ही खुशी के साथ आपके सामने पेश करता हुं गझल, यही जिन्दगानी…जो कि हाल ही मेरे प्रिय शरतजी मल्होत्राने कंपोझ कर गाई और रेकार्ड की है..
उम्मिद है आपको पसंद आये और कलाकार का होंसला बढाते प्रतिभाव दे..यही भावना के साथ शेर करते है…
टेक्सास यु एस स्थित..शरतजी मल्होत्रा बहोत ही अच्छे कंपोझर है और रेकोर्डींग भी स्टुडिओमें करते है..उनका संगीत, गायीकि भीतर की गहराइओ को छु जाता है और हर शब्द मे जां भर देता है उनका मे दिल से धन्यवाद देता  हुं और अभिनंदन भी कि उनकी ये कला उतरोत्तर बढती जाये और उंचाइके  हर शीखर सर करती जाये…
-दिलीप

तुझे प्यार करना, तेरा प्यार पाना, यही िजन्दगानी
तेरी प्रीतका एक, मधुर गीत गाना, यही जिन्दगानी

यहांकी हरेक चीज, आनी है जानी, और फानी है फीर भी,
समन्दरमें गहरे, मुझे डुब जाना, यही जिन्दगानी

नजरको मिलाकर सभी गम भूलाकर ईसी पलमें जी लुं
नही सांसोका है कोई भी ठिकाना यही जिन्दगानी

सभीकुछ अधुरा, अलग था थलग था, मधुर अब सभीकुछ
िपयाके मिलनसे ना कुछ भी पुराना यही जिन्दगानी

चमनमें बहारे ,तो आती है जाती, खुशी और खीजांकी
फूलोसे ही सीखा सदा मुस्कुराना यही जिन्दगानी

यहा भीड है फीर भी सूने नगरकी सीमा पार करके
गगनमें जा उडना ऊत्सव मनाना यह िजन्दगानी

रहे बहता निर्झर सा जीवन तुम्हारा परम लक्ष पाने
ये अवसर मिला है ना यूही गवानां यही जिन्दगानी
DILIP GAJJAR

Image edited by Dilip Gajjar

Advertisements

9 thoughts on “यही जिन्दगानी-शरत मल्होत्रा

  1. तीन चार बरससे पठते थे यह रचना…
    मधुर तरन्नुममें सुनने की मझा और !
    धन्यवाद
    यहांकी हरेक चीज, आनी है जानी, और फानी है फीर भी,
    समन्दरमें गहरे, मुझे डुब जाना, यही जिन्दगानी
    यह सुनते ही हमारे ५५ वर्षकी मॅरेज एनीवर्शरी पर हमने गाया था वो गीत याद आया
    दो दिन की ज़िंदगी है इसे यूँ गुज़ार दे
    उजड़ी हुई ये प्यार की राहें सँवार दे
    हम तुम यहाँ रहे ना रहे इस का ग़म नहीं
    लेकिन हमारे प्यार का बाकी निशाँ रहे
    मैं भी वहीं रहूँ मेरा साजन जहाँ रहे
    : दुनिया में छोड़ जायेंगे हम वो निशानियाँ \-२
    बन जायेंगी जो प्यार की मीठी कहानियाँ \-२
    : दुनिया हमारे बाद हमें यूँ करेगी याद
    दो प्यार करने वाले हैं पर एक जाँ रहे
    मैं भी वहीं रहूँ मेरा साजन जहाँ रहे
    दुनिया हमारे प्यार की यूँही जवाँ रहे
    मैं भी वहीं रहूँ मेरा साजन जहाँ रहे
    दुनिया हमारे प्यार की

  2. यहांकी हरेक चीज, आनी है जानी, और फानी है फीर भी,
    समन्दरमें गहरे, मुझे डुब जाना, यही जिन्दगानी
    lovely rendition by Sharat ji … gives a new meaning to your philosophical lyrics … many congratulations …

  3. चमनमें बहारे ,तो आती है जाती, खुशी और खीजांकी
    फूलोसे ही सीखा सदा मुस्कुराना यही जिन्दगानी|
    बहोत ख़ूब/सुंदर रचना दिलीपजी ,धन्यवाद। इतनी भा गई कि हर वक़्त गुनगुनाने को जी चाहता है….
    तुझे प्यार करना, तेरा प्यार पाना, यही िजन्दगानी
    तेरी प्रीतका एक, मधुर गीत गाना, यही जिन्दगानी

  4. ભાવવાહી ઉત્તમ ગઝલ અને સ્વર અને સંગીતનો નીખાર , કર્ણપ્રીય રીતે વહ્યો છે. શ્રી દિલીપભાઈ ગજ્જર એટલે હૃદયની ઊર્મિઓને મઢનાર. શ્રીशरतजी मल्होत्रा એ ગઝલને સુંદર ન્યાય આપ્યો છે. ખૂબખૂબ અભિનંદન. સાચે જ સાંભળતા રહીએ એવી ગહેરાઈ છે…चमनमें बहारे ,तो आती है जाती, खुशी और खीजांकी
    फूलोसे ही सीखा सदा मुस्कुराना यही जिन्दगानी

    રમેશ પટેલ(આકાશદીપ)

  5. આનું નામ જીવન જીવન એજ પ્રેમ નું બીજું નામ છે આ સર્વોતમ ગઝલ અને એ પણ મારા જન્મ દિવસ ના પ્રસંગ સમયે સાંભળી વાંચી ને ખુબજ ધન્ય થયો છું તમો એ મને મારા જન્મ દિવસ ની ભેટ આપી છે.હું આદરણીય શ્રી રમેશભાઈ ની કોમેટ ને બિલકુલ સાથ આપું છું….આદરણીય દિલીપભાઈ આપશ્રી અને માનનીય સરત મલ્હોત્રા જી ને હાર્દિક અભિનંદન આપું છું .સુભેછા સહ.

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s